Rahul Gandhi के घर से एक और नोटिस देकर निकली दिल्ली पुलिस, कांग्रेस ने उठाए सवाल

स्टोरी शेयर करें


कांग्रेस नेता राहुल गांधी के घर रविवार की सुबह दिल्ली पुलिस उनसे पूछताछ करने पहुंची थी। श्रीनगर में भारत जोड़ो यात्रा के दौरान राहुल गांधी ने महिलाओं के यौन उत्पीड़न के मामले में बयान दिया था, जिसे लेकर दिल्ली पुलिस उनसे पूछताछ करने पहुंची थी। राहुल गांधी से पूछताछ करने दिल्ली पुलिस स्पेशल सेल सीपी सागर प्रीत हुड्डा अपनी टीम के साथ पहुंचे थे।

दिल्ली पुलिस की टीम सुबह 10 बजे उनके घर पहुंची थी। हालांकि दो घंटे के इंतजार के बाद भी राहुल गांधी से दिल्ली पुलिस की टीम की मुलाकात नहीं हो सकी थी। हालांकि बाद में राहुल गांधी से मुलाकात हुई मगर राहुल ने इस दौरान दिल्ली पुलिस को बयान दर्ज नहीं करवाया है। दिल्ली पुलिस ने राहुल गांधी को एक और नोटिस थमाया है। इससे पहले दिल्ली पुलिस ने 16 मार्च को भी राहुल गांधी को नोटिस दिया था। 

अधिकारियों ने बताया कि विशेष पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) सागर प्रीत हुड्डा के नेतृत्व में पुलिस दल राहुल के 12, तुगलक लेन स्थित आवास पर पहुंचा। बहरहाल, अधिकारियों ने बताया कि कांग्रेस नेता के आवास पर दो घंटे से अधिक समय गुजारने के बावजूद पुलिस दल उनसे नहीं मिल सका है। 

दिल्ली पुलिस ने सोशल मीडिया पोस्ट का संज्ञान लेते हुए कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी को एक प्रश्नावली भेजी थी और उनसे “यौन उत्पीड़न की शिकायत को लेकर संपर्क करने वाली महिलाओं के बारे में विवरण देने” को कहा था। पुलिस के मुताबिक, राहुल ने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के श्रीनगर चरण के दौरान बयान दिया था, “मैंने सुना है कि महिलाओं का अब भी यौन उत्पीड़न हो रहा है।” अधिकारियों ने बताया कि पुलिस ने कांग्रेस नेता से इन पीड़ितों का विवरण देने को कहा था, ताकि उन्हें सुरक्षा मुहैया कराई जा सके।

इस मामले पर स्पेशल सेल सीपी सागर प्रीत हुड्डा का कहना है कि राहुल गांधी ने कहा कि कई महिलाओं ने उन्हें बताया कि उनके साथ यौन उत्पीड़न हुआ है। हालांकि राहुल गांधी के मुताबिक अब तक इन्हें कंपाइल नहीं किया गया है। ऐसे में राहुल ने आज बयान नहीं दिया है। पुलिस जल्द ही राहुल गांधी का बयान दर्ज करेगी। इस मामले में 15 मार्च को पुलिस जानकारी इकट्ठा करने की कोशिश कर चुकी है मगर तब भी पुलिस को सफलता नहीं मिली थी।

भड़के कांग्रेस के नेता
इस मामले में कांग्रेस नेता अभिषेक मनु सिंघवी, अशोक गहलोत और पवन खेड़ा ने पुलिस की कार्रवाई पर कई सवाल उठाए है। एक प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि भारत जोड़ो यात्रा के 45 दिनों के बाद दिल्ली पुलिस ने नोटिस दिया और नोटिस देने के तीन दिन में ही पूछताछ करने पहुंच गई। उन्होंने इसे हरासमेंट करार दिया है। उन्होंने कहा कि दो पन्नों में राहुल गांधी से उन लाखों लोगों का ब्योरा मांगा गया जिनसे भारत जोड़ो यात्रा के दौरान मुलाकात हुई थी। उन्होंने हैरानी जताई की दिल्ली पुलिस इस मामले में 45 दिनों तक चुप क्यों थी। 

ये है मामला
राहुल ने ‘भारत जोड़ो यात्रा’ के श्रीनगर चरण के दौरान बयान दिया था, “मैंने सुना है कि महिलाओं का अब भी यौन उत्पीड़न हो रहा है।” राहुल गांधी के इस बयान के बाद 16 मार्च को दिल्ली पुलिस ने राहुल गांधी को नोटिस देकर पूछा था कि उन महिलाओं का विवरण दें, जिनके साथ यौन उत्पीड़न किया जा रहा है। 



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: