पाकिस्तान: हिंदू मंदिर में तोड़फोड़, आगजनी का मुख्य आरोपी मौलवी मोहम्मद शरीफ गिरफ्तार

स्टोरी शेयर करें



इस्लामाबाद
पाकिस्‍तान के खैबर पख्तूनख्वा प्रांत में हिंदू मंदिर को आग लगाने और उसे तोड़ने के मामले में पुलिस ने मुख्य आरोपी मौलवी मोहम्मद शरीफ को गुरुवार को गिरफ्तार कर लिया है। पुलिस ने इस मामले में जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम (JUI-F) के दो स्थानीय मौलवियों मौलवी मोहम्मद शरीफ और मौलाना फैजुल्लाह सहित सैकड़ों अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की थी।

इससे पहले हिंदू मंदिर पर हुए इस हमले के सिलसिले में पुलिस ने रातभर कई जगह छापे मारे और गिरफ्तारियां कीं। थाना प्रभारी रहमतुल्ला खान ने बताया कि खैबर पख्तूनख्वा में करक जिले के टेरी गांव में मंदिर पर हमले के बाद कट्टरपंथी जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम पार्टी के नेता रहमत सलाम खट्टक समेत 26 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम पार्टी (फजल उर रहमान समूह) के समर्थकों के नेतृत्व वाली भीड़ ने मंदिर के विस्तार कार्य का विरोध किया और मंदिर के पुराने ढांचे के साथ-साथ नवनिर्मित निर्माण कार्य को भी ध्वस्त कर दिया।

संघीय संसदीय सचिव लाल चंद मल्ही ने की इस हमले की कड़ी आलोचना
इस घटना की मानवाधिकार कार्यकर्ताओं और अल्पसंख्यक हिंदू समुदाय ने निंदा की है। में मानवाधिकारों के लिए संघीय संसदीय सचिव लाल चंद मल्ही ने इस हमले की कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग पाकिस्तान को बदनाम करने के लिए इस प्रकार की असामाजिक गतिविधियां कर रहे हैं, जिन्हें सरकार कतई बर्दाश्त नहीं करेगी।

खैबर पख्तूनख्वा के मुख्यमंत्री महमूद खान ने मंदिर पर हमले को ‘एक दुर्भाग्यपूर्ण घटना’ बताया और इसमें शामिल लोगों की तत्काल गिरफ्तारी के आदेश दिए। खान ने पूजा स्थलों की इस प्रकार की घटनाओं से रक्षा किए जाने का संकल्प लिया।

मंदिर परिसर में है हिंदू धार्मिक नेता की समाधि
हिंदू समुदाय पेशावर के नेता हारून सरब दियाल ने कहा कि इस मंदिर परिसर में एक हिंदू धार्मिक नेता की समाधि है और देश के हिंदू परिवार हर गुरुवार को इस समाधि पर आते हैं। उन्होंने कहा कि इस घटना ने हिंदू समुदाय की भावनाएं आहत की हैं और इस्लामिक विचारधारा परिषद को इसका संज्ञान लेना चाहिए। दियाल ने कहा कि पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान धार्मिक स्थलों पर पर्यटन को बढ़ावा देने की बात करते हैं, लेकिन देश में अल्पसंख्यकों के पूजनीय स्थल सुरक्षित नहीं है। हिंदू समुदाय पाकिस्तान का सबसे बड़ा अल्पसंख्यक समुदाय है। आधिकारिक अनुमान के अनुसार, पाकिस्तान में 75 लाख हिंदू रहते हैं, लेकिन समुदाय का कहना है कि देश में 90 लाख से अधिक हिंदू रह रहे हैं। पाकिस्तान में हिंदुओं की अधिकतर आबादी सिंध प्रांत में रहती है।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: