सियाचिन-कश्मीर पर मरियम नवाज ने पाकिस्तानी सेना को याद दिलाई हार, मचा बवाल

स्टोरी शेयर करें



इस्लामाबाद
पाकिस्तान में सरकार को उखाड़ फेंकने के लिए एकजुट विपक्ष लगातार बड़ी-बड़ी रैलियां कर रहा है। इस रैलियों में लाखों की संख्या में लोगों के पहुंचने के कारण इमरान खान की नींद उड़ी हुई है। उधर रविवार को सिंध प्रांत के लरकाना में पाकिस्तान डेमोक्रेटिक मूवमेंट (पीडीएम) की रैली में बिलावल भुट्टो और ने और इमरान खान पर जमकर निशाना साधा। मरियम नवाज ने तो कश्मीर और सियाचिन में मिली हार को लेकर पाकिस्तानी सेना की जमकर बखिया उधेड़ी।

विपक्ष को देशद्रोही बता रहे इमरान के मंत्री
जिसके बाद बचाव में उतरे इमरान सरकार के मंत्री विपक्षी दलों को देशद्रोही तक करार दे रहे हैं। पाकिस्तान के बड़बोले मंत्री शेख रशीद ने इमरान की भाषा बोलते हुए विपक्ष खासकर नवाज शरीफ को पूर्व तानाशाह जनरल जियाउल हक के जूतों को पॉलिश करने वाला बता दिया। उन्होंने दावा किया कि पाकिस्तानी सेना पहले न तो कभी देश की राजनीति में शामिल रही है और न भविष्य में कभी होगी। हालांकि, दलबदल से पहले विपक्ष में रहते हुए शेख रशीद खुद पाकिस्तानी सेना की आलोचना किया करते थे।

क्या कहा था मरियम नवाज ने
पाकिस्तान मुस्लिम लीग- नवाज की अध्यक्ष मरियम नवाज ने अपने संबोधन में पाकिस्तानी सेना और आईएसआई पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि देश में जब राजनीतिक दलों ने अपने वादों को पूरा करना शुरू कर दिया तो कुछ ताकतें (पाकिस्तानी सेना और आईएसआई) जो फूट डाल राज करो के लिए बदनाम थी, वो बेचैन होने लगीं। तब हमने देखा कि आईएसआई के पूर्व प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल अहमद शुजा ने राजनीतिक कचरों को इकट्ठा करके पाकिस्तान तहरीक एक इंसाफ (इमरान खान की पार्टी) की स्थापना की।

सेना ने देश को तोड़ा और सियाचिन-कश्मीर को खोया
उन्होंने आगे कहा कि जब देश में राजनेताओं को मौत की सजा दी जाने लगी और उनके चरित्र के ऊपर सवाल उठाए जाने लगे, तब कुछ लोग देश और संविधान को तोड़ने, सियाचिन और कश्मीर को खोने, राजनीति में हस्तक्षेप करने की शपथ का उल्लंघन करते हुए इससे भी कई गंभीर अपराध किए। उन लोगों को आज तक इसके लिए जिम्मेदार नहीं ठहराया गया।

आईएसआई और सेना के इशारे पर नाचती है पीटीआई
मरियम ने कहा कि इमरान खान की पार्टी को पाकिस्तानी सेना और आईएसआई के इशारे पर इस दल को चुनी हुई सरकार के खिलाफ धरने और षड्यंत्र में इस्तेमाल किया गया। लेकिन याद रखें विचारधारा को फांसी या निर्वासित नहीं किया जा सकता है। पूर्व राष्ट्रपति जनरल परवेज मुशर्रफ पर हमला करते हुए मरियम नवाज ने कहा कि देश के संविधान और बेनजीर भुट्टो के हत्यारे जनरल को किसी ने भी देश लाने की बात नहीं की। जिस अदालत ने मुशर्रफ को मौत की सजा दी उसने फांसी पर खुद को ही टांग लिया।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: