ब्रिटिश और अमेरिकी नेताओं को हनीट्रैप में फांस रहे चीनी जासूस, सेक्स और कैश से उगलवा रहे राज

स्टोरी शेयर करें



वॉशिंगटन/लंदन
दुनियाभर के देशों से उलझा चीन अब हनीट्रैप के जरिए खुफिया जानकारी को जुटाने में लगा है। अमेरिका, ब्रिटेन, फ्रांस, नीदरलैंड समेत कई देशों में शीर्ष स्तर के अधिकारियों को फांस रहे हैं। ये जासूस पैसों और सेक्स के जरिए अधिकारियों से देश से जुड़े खुफिया जानकारी हासिल करते हैं और उसे चीन स्थित अपने हैंडलर्स को भेज देते हैं। हाल में ही ब्रिटेन में एक ऐसे ही चीनी जासूस का भंडाफोड़ हुआ है, जो शीर्ष स्तर के सांसदों और पार्टियों को बड़ी मात्रा में चंदा देकर खुफिया जानकारी हासिल करती थी। इससे पहले अमेरिका में भी एक ऐसे ही चीनी जासूस के बारे में पता चला था।

ब्रिटिश खुफिया एजेंसी ने किया भंडाफोड़
ब्रिटिश खुफिया एजेंसी एमआई5 ने ब्रिटेन की संसद को जानकारी दी है कि इस चीनी जासूस के कई राजनेताओं के साथ घनिष्ठ संबंध हैं। इसमें ब्रिटेन की शीर्ष विपक्षी लेबर पार्टी के कई सांसद शामिल हैं। इस एजेंट ने पिछले कई साल में लेबर पार्टी को करोड़ों रुपये का चंदा भी दिया है। चीन के इस जासूस की पहचान चीनी नागरिक क्रिस्टीन ली के रूप में हुई है। वह पेशे से वकील है और लंदन स्थित चीनी दूतावास के साथ करीब से जुड़ी हुई है। क्रिस्टीन ली पर ब्रिटिश सुरक्षा एजेंसियां काफी समय से नजर बनाए हुई थीं। हालांकि, उसे अभी गिरफ्तार नहीं किया गया है।

ब्रिटिश नेताओं और पार्टियों को दे रही थी चंदा
ब्रिटिश संसद के स्पीकर की संसदीय सुरक्षा टीम ने आज वेस्टमिंस्टर में सभी सांसदों और साथियों को एक चेतावनी संदेश भेजा गया है। इसमें कहा गया था कि क्रिस्टीन ली चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के संयुक्त मोर्चा कार्य विभाग की ओर से जानबूझकर राजनीतिक हस्तक्षेप की गतिविधियों में लिप्त थीं। स्पीकर ने साफ किया है कि फिलहाल ब्रिटेन के किसी भी राजनेता पर किसी आपराधिक मामलों से जुड़े होने का संदेह नहीं है। क्रिस्टीन ली लंदन की एक वकील है। वह लंदन में चीनी दूतावास की पूर्व मुख्य कानूनी सलाहकार भी रह चुकी है। वर्तमान में वह प्रवासी चीनी मामलों के कार्यालय की कानूनी सलाहकार हैं। वह वेस्टमिंस्टर में इंटर-पार्टी चाइना ग्रुप की सचिव भी हैं।

अमेरिकी नेताओं को भी फांस रहे चीनी जासूस
पिछले साल ही अमेरिका में एक महिला चीनी जासूस का भंडाफोड़ हुआ था। वो पिछले चार साल के अमेरिका में जासूसी कर रही थी। हालांकि, राज खुलने से पहले ही वह अमेरिका छोड़कर चीन भाग गई थी। अमेरिका में विदेशी छात्र के रूप में रह रही चीनी जासूस का कई राजनेताओं के साथ शारीरिक संबंध होने का भी दावा किया गया था। इस जासूस की जाल में एक अमेरिकी मेयर के अलावा जो बाइडन की डेमोक्रेटिक पार्टी के एक वरिष्ठ नेता भी फंसे हुए थे।

अमेरिकी नेता से थे जिस्मानी संबंध, की थी फंडिंग
द सन की रिपोर्ट के अनुसार, चीन की इस महिला जासूस का नाम क्रिस्टीन फांग था। इसे फांग फांग के नाम से भी जाना जाता था। इस जासूस ने चार साल अमेरिका में स्टूडेंट बनकर कई अमेरिकी राजनेताओं को अपनी जाल में फंसाया था। इसमें डेमोक्रेटिक सांसद और यूएस सीनेट के इंटेलिजेंस कमेटी के मेंबर रहे एरिक स्वैलवेल भी शामिल हैं। आरोप यह भी हैं कि स्वैलवेल और क्रिस्टीन के बीच शारीरिक संबंध थे। हालांकि, अमेरिकी सांसद ने सार्वजनिक रूप से आपसी रिश्तों को कभी स्वीकार नहीं किया है।

पकड़ में आने से पहले ही अमेरिका से हो गई थी फरार
2014 में चीनी जासूस क्रिस्टीन फांग ने एरिक स्वैलवेल के चुनाव लड़ने के लिए फंडिंग की थी। दरअसर एरिक उसके फंड रेजिंग कैंपेन, व्यापक स्तर की पहुंच, सुंदरता को देखकर फिदा हो गए थे। जिसके बाद इन दोनों के बीच काफी नजदीकी बन गई थी। लेकिन, जब अमेरिकी खुफिया एजेंसी एफबीआई ने एरिक को उसके चीनी जासूस होने की जानकारी दी, तब उन्होंने क्रिस्टीन से दूरी बना ली थी। 2015 में एफबीआई को क्रिस्टीन फांग के बारे में जानकारी मिल गई थी। जिसके बाद से एफबीआई ने उसे रंगे हाथ पकड़ने के लिए जाल भी बिछाया। लेकिन, अपने काम में माहिर क्रिस्टीन ने अमेरिकी खुफिया एजेंसी की चाल को पहले ही भांप लिया और देश छोड़कर फरार हो गई। बताया जाता है कि उसे अमेरिका से फरार करवाने में कई अमेरिकी राजनेताओं का हाथ था।

कैसे काम करते हैं चीनी जासूस
चीन के जासूस हनीट्रैप में फंसाने के लिए सोशल मीडिया का खूब उपयोग करते हैं। इसी के जरिए ये अमेरिकी राजनेताओं और अधिकारियों के साथ संपर्क स्थापित करते हैं। उन्होंने कहा कि फांग फांग या क्रिस्टीन फांग को भी चीन के राज्य सुरक्षा मंत्रालय ने ही अमेरिका में जासूसी करने के लिए भेजा था। उन्होंने कहा कि मैं विश्वास के साथ कह सकता हूं कि अब भी बड़ी संख्या में चीनी जासूस अमेरिका में सक्रिय हैं, जो यहां बड़े अधिकारियों और राजनेताओं को अपने हनीट्रैप में फंसाने की कोशिश कर रही हैं। अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए के पूर्व अधिकारी डेनियल हॉफमैन ने फॉक्स न्यूज को दिए गए एक इंटरव्यू में कहा कि चीन के सैकड़ों नहीं हजारों की संख्या में हनीट्रैप जासूस हमारे देश में सक्रिय हैं। ये जासूस गुप्त सूचनाओं को चीन तक पहुंचाने का काम करते हैं।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: