खत्म होने को है हाइवे के मरम्मत की निर्धारित डेडलाइन, अभी आधे से अधिक काम बाकी

स्टोरी शेयर करें



सिंगरौली. छह महीने देरी से शुरू हुआ हाइवे की मरम्मत का कार्य चार महीने में आधा भी पूरा नहीं हो सका है। बात सीधी-सिंगरौली हाइवे की कर रहे हैं। हाइवे को पूरी तरह से दुरुस्त होने में चार महीने का वक्त निर्धारित किया गया था। निर्धारित वक्त पूरा हो चुका है जबकि मरम्मत का कार्य आधे से अधिक बाकी है। ऐसे में उन लोगों की उम्मीद अभी अधूरी है, जो देवसर व बरगवां के बीच हर रोज यात्रा करते हैं।

यात्रियों को अब भी इस रास्ते में हिचकोले खाना पड़ रहा है। सीधी-सिंगरौली हाइवे में सबसे खराब स्थिति देवसर व बरगवां के बीच की है। गोपद नदी से आगे के खराब मार्ग को तो दुरुस्त किया जा चुका है, लेकिन देवसर व बरगवां के बीच का बदहाल मार्ग अभी भी मरम्मत की बाट जोह रहा है। हाइवे को दुरुस्त करने की डेडलाइन खत्म होने को है और सुस्त चल रहे कार्य के चलते अभी आधे से अधिक कार्य बाकी है। इससे लोगों में भारी निराशा है।

फिलहाल अधिकारी अब देवसर व बरगवां के बीच कार्य शुरू होने का आश्वासन दे रहे हैं। दावा है कि गोपद नदी से लेकर देवसर तक मरम्मत का कार्य लगभग पूरा होने को है। हाइवे की मरम्मत का कार्य योजना के अनुरूप नहीं किया जा सका है। यही वजह है कि चार महीने का वक्त बीतने को है और आधे से अधिक कार्य बाकी है।

दरअसल मरम्मत कार्य सीधी और सिंगरौली दोनों सिरे से शुरू होना था, लेकिन बाद में कंपनी ने यह कहते हुए केवल सीधी के सिरे से कार्य शुरू किया कि एक सिरे से पूरी क्षमता से कार्य किया जाए, ताकि राहगीरों को अधिक समस्या न हो। दलील रही कि दोनों सिरे से कार्य शुरू हुआ तो संसाधन दो हिस्सों में बंट जाएंगे और कार्य की गति धीमी और आवागमन करने वालों के लिए मुसीबत भरी होगी।

बीच में कार्य बंद हो जाने का भय
बदहाल हाइवे की समस्या झेलने वालों को मरम्मत कार्य शुरू होने पर बड़ी उम्मीद जगी थी, लेकिन अब वह उम्मीद टूटने लगी है। राहगीरों को अब यह डर सताने लगा है कि कहीं निर्माण की जिम्मेदारी संभालने वाली पूर्व की एजेंसी गैमन इंडिया की तरह मरम्मत का कार्य करने वाली एजेंसी भी आधे में ही काम छोड़कर भाग नहीं जाए। कंपनी ने काम छोड़ा तो हाइवे की मुख्य समस्या बनी रह जाएगी। क्योंकि हाइवे की सबसे खराब स्थिति देवसर व बरगवां के बीच ही है। एजेंसी ने किसी बहाने से काम रोका तो समस्या पूर्व की तरह बनी रहेगी।

निर्माण कार्य की निविदा भी होनी है जारी
इधर, हाइवे के 30 प्रतिशत बाकी रह गए कार्य को पूरा करने के लिए भी निविदा प्रक्रिया शुरू है। फरवरी से कार्य शुरू करने का दावा भी किया गया है। ऐसे में मरम्मत का कार्य फरवरी से पहले पूरा होना जाना चाहिए। फिलहाल अधिकारियों का कहना है कि अगले डेढ़ से दो महीने में हाइवे की मरम्म का कार्य पूरा कर लिया जाएगा। मरम्मत कार्य के लिए एजेंसी को 16 करोड़ रुपए का बजट जारी किया गया है। यह बजट पर्याप्त है। आवश्यकता पड़ी तो और भी बजट उपलब्ध कराया जाएगा।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: