Chhatarpur News: राम नाम ने बचा लिया पहाड़, रंग लाई पर्यावरण सुरक्षा की ग्रामीणों की अनोखी मुहिम

स्टोरी शेयर करें


छतरपुर
पर्यावरण को बचाने के लिए लोग तरह-तरह के प्रयोग करते रहे हैं। देश में कई सरकारी और गैर सरकारी संस्थाएं पर्यावरण के लिए काम कर रही हैं। मध्य प्रदेश के छतरपुर जिले की लवकुशनगर तहसील के छोटे से गांव मुड़ेरी में रहने वाले ग्रामीणों ने पर्यावरण को बचाने के लिए राम नाम का अनोखा प्रयोग किया। वर्षों पहले शुरू हुआ यह प्रयोग न सिर्फ सफल रहा, बल्कि अब गांव की युवा पीढ़ी भी इसमें अहम भूमिका निभा रही है|

मुड़ेरी गांव एक पहाड़ से चारों ओर से घिरा हुआ है। गांव के लोग इसे नंदीश्वर पहाड़ कहते है। यह पहाड़ लगभग 30 एकड़ में फैला हुआ है और इसी पहाड़ के इर्द-गिर्द पूरा गांव बसा हुआ है। यह बेहद प्राचीन पहाड़ है। इसमें कई तरह के औषधीय पेड़ लगे हुए हैं। हजारों चट्टानें इस पर मौजूद हैं, लेकिन लगभग 20 साल पहले इस पहाड़ पर चारों ओर गंदगी फैली थी। पेड़ों की लगातार कटाई हो रही थी। पहाड़ पर मौजूद पत्थरों को उठाकर लोग अपने घरों में उपयोग कर रहे थे और अवैध उत्खनन भी हो रहा था।

पहाड़ को इस सब से बचाने के लिए गांव के लोगों ने चट्टानों पर “राम नाम” लिखना शुरू कर दिया और धीरे धीरे पहाड़ सुरक्षित एवं स्वच्छ होने लगा। गांव में रहने वाले बुजुर्ग राम करण बताते हैं कि पहाड़ को बचाने के लिए हम लोगों ने वर्षों पहले पहाड़ की चट्टानों पर राम नाम लिखना शुरू किया था और आज उसका असर देखने को मिलता है। पहाड़ में पहले से गुना ज्यादा पेड़ और पत्थर है। गांव का कोई भी व्यक्ति यहां गंदगी नहीं करता। गांव में सफाई भी रहती है।

गांव के युवा पप्पू गर्ग बताते हैं कि हमारे बुजुर्गों ने पहाड़ और पर्यावरण को बचाने के लिए यह मुहिम चलाई थी। अब गांव के युवा मिलकर इसे आगे बढ़ा रहे हैं | चट्टानों पर राम नाम लिख रहे हैं। लोगों से पर्यावरण संरक्षण में आगे आने के लिए कह रहे हैं। आज गांव का पहाड़ पूरी तरह से सुरक्षित और स्वच्छ है|



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: