Prayer Rug Weaver Ghulam Mohammad Dar के बनाये कश्मीरी गलीचों की पूरी दुनिया में होती है माँग

स्टोरी शेयर करें


कश्मीरी कारीगर गुलाम मुहम्मद डार छोटे गलीचे बनाते हैं जोकि प्रार्थना करने के दौरान उपयोग किये जाते हैं। उनके द्वारा हस्तनिर्मित गलीचों की मांग लगभग आधी सदी से यूरोप और अरब में बनी हुई है। श्रीनगर के डाउनटाउन में रहने वाले 63 वर्षीय गुलाम मुहम्मद डार 49 वर्षों से कश्मीर की समृद्ध सांस्कृतिक विरासत को दुनिया के सामने प्रदर्शित करते हुए उत्कृष्ट प्रार्थना गलीचे तैयार कर रहे हैं। पारंपरिक तकनीकों और जटिल डिजाइनों के साथ सावधानीपूर्वक बुनी गई उनकी उत्कृष्ट कृतियों की यूरोप और मध्य पूर्व के पवित्र स्थानों में खूब मांग है। इसके अलावा दुनिया के जिन देशों में कश्मीरी शिल्प की मांग है वहां भी गुलाम मुहम्मद डार के गलीचे प्रसिद्ध हैं।

इसे भी पढ़ें: Kashmir में भीषण ठंड में लोगों को कम खर्च में अच्छी गर्माहट प्रदान करते हैं Electric Blankets, बाजार में इनकी है खूब माँग

अपनी कला के प्रति डार के समर्पण और कालीन बनाने की सदियों पुरानी परंपरा को संरक्षित करने की प्रतिबद्धता के चलते उन्होंने स्थानीय और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रशंसा अर्जित की है। उनके गलीचे गुणवत्ता, सुंदरता और जटिल पैटर्न के जरिये कश्मीरी संस्कृति और कलात्मकता को दर्शाते हैं। प्रभासाक्षी संवाददाता से बातचीत के दौरान उन्होंने बताया कि हाल के वर्षों में उन्होंने अपने कौशल में कुछ बदलाव भी किया है।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements