Covid Vaccine Passport: 2021 में मास्क की तरह वैक्सीन पासपोर्ट भी होगा जरूरी?

स्टोरी शेयर करें



एनबीटी न्यूज डेस्क
ब्रिटेन ने सबसे पहले फाइजर की वैक्सीन को मंजूरी दी, उसके बाद अमेरिका, कनाडा, पूरे यूरोप और पश्चिमी एशिया के कुछ देशों में भी बड़े पैमाने पर वैक्सीन लगाए जाने का काम शुरू हो चुका है। ऐसे में मुमकिन है कि 2021 में इंटरनेशनल ट्रैवल पर भी इसका बड़ा असर पड़ेगा। सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग की तरह यानी डिजिटल हेल्थ पास भी आम बात हो सकते हैं। मुमकिन है कि इंटरनेशनल ट्रैवल, किसी कार्यक्रम में शामिल होने, मूवी थिएटर में एंट्री के लिए आपको अपना कोविड स्टेटस दिखाना हो। वैक्सीन पासपोर्ट जरूरी नहीं कि आपका वैक्सिनेशन कार्ड ही हो, जैसा कि ब्रिटेन में वैक्सीन लगाए जाने के बाद लोगों केा दिया जा रहा है। यह मोबाइल ऐप हो सकता है।

टेक कंपनियों की ओर से बनाए मोबाइल ऐप पर लोगों को अपनी कोविड टेस्ट की डिटेल और वैक्सिनेशन की जानकारी अपलोड करनी होगी। जब भी पूछा जाएगा, उन्हें ऐप पर इसे दिखाना होगा। उदाहरण के लिए कॉमन ट्रस्ट नेटवर्क ने कॉमन पास ऐप बनाया है जिस पर यूजर कोविड टेस्ट की रिपोर्ट या वैक्सीन लगने का प्रूफ अपलोड कर सकते हैं। इसमें हर यूजर को एक क्यूआर कोड के रूप में पास मिलता है जिसे अथॉरिटीज के पास दिखाया जा सकता है।

कॉमन ट्रस्ट नेटवर्क वर्ल्ड इकॉनमिक फोरम से जुड़ा है जो कई एयरलाइंस से हाथ मिला चुका है। इसी तरह आईबीएम ने भी डिजिटल हेल्थ पास नाम से ऐप बनाया है जिससे कंपनियां अपने यहां एंट्री देने से पहले किसी भी व्यक्ति की जरूरी हेल्थ डिटेल्स जैसे कि कोरोना टैस्ट और शरीर का तापमान चेक कर सकती हैं।

मगर ऐसा करना फायदेमंद होगा भी?

  • सीएनएन की रिपोर्ट के मुताबिक, विश्व स्वास्थ्य संगठन का कहना है कि कुछ देशों ने अपने यहां आने देने के लिए वैक्सीन पासपोर्ट का सुझाव दिया है मगर यह कारगर नहीं लगता। अभी यह यकीनी तौर पर कहा नहीं जा सकता कि जिन्हें कोविड हो चुका है, उन्हें दोबारा संक्रमण नहीं होगा। ऐसे में ऐसे किसी इम्यूनिटी सर्टिफिकेट या पासपोर्ट से इन्फेक्शन फैलता ही रहेगा।
  • एक और चिंता वैक्सीन पासपोर्ट को लेकर यह है कि हर वैक्सीन का असर एक जैसा नहीं है। चाइनीज कंपनी साइनोफार्म की वैक्सीन का असर 86 पर्सेंट बताया जाता है जबकि फाइजर और मॉडर्ना अपनी वैक्सीन को 94 पर्सेंट तक असरदार बताते हैं।
  • वहीं ऐसे पासपोर्ट ऐप सिर्फ स्मार्टफोन पर रखे जा सकते हैं, जो कि सभी के पास होना मुमकिन नहीं। ऐसे में यह भी ध्यान रखा जाना होगा कि यह सबके लिए किफायती नहीं है।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: