कश्मीर में फुटबॉलर से आतंकी बने आमिर की अंतिम बातचीत, पिता से बोला-‘मैंने गलती की, मुझे आतंकी बनने का पछतावा’

स्टोरी शेयर करें



जम्मू
सोपोर का एक फुटबॉलर आतंकी बना। पिछले हफ्ते इस आतंकी को सुरक्षाबलों ने मार गिराया। आतंकी की बातचीत का एक ऑडियो वायरल हुआ है। इसमें वह कह रहा है कि उसे आतंकवादी समूह में शामिल होने पर पछतावा हुआ।

अमीर सिराज (A) और उनके पिता (B) के बीच फोन पर हुई बातचीत से पता चलता है कि आमिर ने आतंकी संगठन कैसे जॉइन किया और उसके बाद उसे आतंकी संगठन में शामिल होने के फैसले पर पछतावा था।

हालांकि आमिर के परिवार ने ऑडियो क्लिप को फर्जी बताया और कहा कि उनके और उनके पिता के बीच इस तरह की कोई बातचीत नहीं हुई है। एसएसपी सोपोर, जावेद इकबाल ने बताया, ‘एक संभावना है कि हो सकता है उसने अपने पिता को अपने आखिरी क्षणों में बुलाया होगा, यह ऐसी परिस्थितियों में होता है। हालांकि, मैं अभी क्लिप की प्रामाणिकता की पुष्टि नहीं कर सकता। अगर उसने अपने पिता को फोन किया लेकिन वह आमिर के साथ किसी भी तरह की बातचीत से इनकार कर रहे हैं, तो हो सकता है कि बातचीत हुई हो लेकिन पिता के ऐसा कहने के पीछे कोई कारण हो’

24.12.2020 की बातचीत के अंश…

A. हेलो

B. हेलो

A. असलामवालेकुम

B. वालेकुमसलाम

A. अब्बा मैं आमिर

B. आमिर, क्या तुम ठीक हो?

A. हमें पकड़ लिया गया है।

B. कहां?

A. क्रीरी में। मेरे साथ एक और है। अब, मैं आत्मसमर्पण करना चाहता था लेकिन लगता है कि अब कोई रास्ता नहीं है। वे हमें ऐसा करने के लिए मजबूर कर रहे हैं। उन्होंने मुझे चेतावनी दी कि अगर मैंने आत्मसमर्पण करने के बारे में सोचा भी तो वे मेरे पूरे परिवार को मार देंगे।

B. बेटा, क्या कोई रास्ता नहीं है जिससे तुम बच सकते हो ?

A. नहीं है। मैंने भूल की। मुझे बरगलाया गया। उन्होंने जबरन मेरी तस्वीर एक हथियार के साथ ली और उसे वायरल कर दिया। मैं घर आना चाहता था, लेकिन उन्होंने मुझे चेतावनी दी कि अगर मैंने ऐसा किया तो वे मेरे पिता, मां, भाई, हर किसी को मार देंगे।

B. हम क्या करेंगे? बोबा का तुम्हारे बिना क्या होगा?

A. किसी को मत बताना। जब तक यह सब खत्म न हो जाए। मैं बस आपसे कुछ कहना चाहता हूं, मैंने सबक लिया है।

B. हां, बेटा।

A. मैंने गलती की। मुझे नहीं पता था कि यह रास्ता मुझे कहां ले जाएगा। मेरे भाई और मेरे दोस्तों को बताएं कि वह इस रास्ते पर कभी न आएं। वे सिर्फ अपना भविष्य बनाने की सोचें।

B. तुम्हारी मां और बहन, तुम्हारे बिना क्या करेंगी?

A. सभी को बताएं कि मैंने जो रास्ता चुना उसका कोई भविष्य नहीं है।

B. बेटा, मैंने तुमसे कहा था कि अपने जीवन का कुछ ऐसा बनाना जिससे तुम्हारा नाम हो।

A. मैंने अपना जीवन बर्बाद कर लिया और मैं अब वापस नहीं आ सकता। मैं सिर्फ इतना ही नहीं चाहता कि मैंने जो भी किया है, वह कोई और करे। उन्होंने मुझे मौका दिया…पुलिस और सेना दोनों ने हमें सरेंडर करने का मौका दिया लेकिन हमारे अपने लोगों ने हमें धमकाया। दुश्मन हमेशा वही होता है जो हमारे बहुत करीब होता है। मैं इस जीवन से बाहर आना चाहता था। मैं अपने माता-पिता के पास वापस आना चाहता था। मैं आपकी सेवा करना चाहता हूं, कड़ी मेहनत करना चाहता हूं, अपने जीवन में कुछ करना चाहता हूं लेकिन मेरे पास अब वह मौका नहीं है। अब मेरा भाग्य खत्म हो गया। लेकिन मैं चाहता हूं कि अब आप यह सुनिश्चित करें कि मेरे साथ जो हुआ है, वह मेरे किसी दोस्त या परिवार

B. बेटा अगर तुम अभी भी कोई रास्ता निकाल सकते हो तो कोशिश करो।

A. कोई रास्ता नहीं है। मेरे परिवार में किसी को न बताएं मुझे अब अपनी किस्मत को स्वीकार करना होगा और मैं प्रार्थना करता हूं कि किसी को भी इस तरह न मरना पड़े जैसे मैं मर रहा हूं। मैं सभी कहूंगा कि मेरी गलतियों और अपराधों के लिए मुझे माफ कर दें। मुझे बहुत पछतावा है, मैं घर आना चाहता हूं, अपने जीवन में कुछ बनाना चाहता हूं लेकिन अब बहुत देर हो चुकी है।

B. तुम्हारी मां क्या करेगी?

A. अगर मैं कर सकता तो आत्मसमर्पण कर देता। सेना और पुलिस ने हमें हर मौका दिया, ये वे लोग हैं जिन्हें मैंने अपना सोचा था, वे लोग मुझे इस तरह से मरने के लिए मजबूर कर रहे हैं। मैं नहीं चाहता कि मेरी वजह से आपको पछतावा हों।

B. मैंने तुम्हें कहा था कि तुमने जो रास्ता चुना है वह गलत है।

A. मेरे साथ एक और व्यक्ति है, उसे भी पछतावा है और …
(बातचीत का अंत)।

24 जून को लापता हुआ था फुटबॉलर
अमीर सिराज (22), बीए अंतिम वर्ष का छात्र था और ख्वाजा गिलगट, सोपोर का एक फुटबॉल खिलाड़ी था। 24 जून की दोपहर में वह लापता हो गया था। बाद में पता चला कि वह आतंकवादी संगठन जैश-ए-मोहम्मद में शामिल हो गया है। पिछले सप्ताह, आमिर और एक अन्य जैश आतंकवादी, उमर अबरार का बारामुला के वनिगम पेमाइन में सुरक्षा बलों के साथ मुठभेड़ हुई थी, जिसके बाद वे मारे गए। सूत्रों ने कहा कि आमिर का कोई भी आतंकी लिंक नहीं था हालांकि, वह सोपोर के अडीपोरा गांव में था, जहां आतंकी भर्ती का गढ़ माना जाता है।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this:
  • whole king crab
  • king crab legs for sale
  • yeti king crab orange