PMC Money Laundering Case: पत्नी वर्षा राउत को ईडी का समन मिलने पर शिवसेना नेता संजय राउत का ट्वीट- आ देखें जरा, किसमें कितना है दम…

स्टोरी शेयर करें



नई दिल्ली
महाराष्ट्र की राजनीति आने वाले दिनों में गरमाने वाली है। ऐसा अनुमान इसलिए जताया जा रहा है क्योंकि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शिवसेना सांसद संजय राउत की पत्नी वर्षा राउत को मनी लॉन्ड्रिंग के एक मामले में पूछताछ के लिए तलब कर लिया है। आने वाले दिनों में महाराष्ट्र के सियासी दंगल की एक झलक खुद संजय राउत ने ही दिखा दी है। उन्होंने ईडी के समन के बाद ट्वीट किया, “आ देखें जरा, किसमें कितना है दम…”

वर्षा राउत को तीसरी बार ईडी का समन
ईडी अधिकारियों ने रविवार शाम को बताया कि वर्षा राउत को पीएमसी बैंक मनी लॉन्ड्रिंग केस में पूछताछ के लिए 29 दिसंबर को बुलाया गया है। वर्षा राउत को मुंबई में केंद्रीय एजेंसी के सामने पेश होने के लिए कहा गया है। यह उनको पेश होने के लिए जारी तीसरा समन है। इससे पहले वह दो बार स्वास्थ्य आधार पर एजेंसी के समक्ष पेश नहीं हुई हैं। पूछताछ के लिए उन्हें समन धनशोधन रोकथाम कानून (पीएमएलए) के प्रावधानों के तहत जारी किया गया है। तीसरे समन के बाद संजय राउत ने ट्वीट के जरिए कुछ ऐसा संदेश दिया है कि वो इसका मुकाबला करने को तैयार हैं।

PMLA के तहत दर्ज किया गया है केस
उधर, आधिकारिक सूत्रों ने दावा किया कि ईडी वर्षा राउत से उस राशि की ‘रसीद’ के बारे में पूछताछ करना चाहता है जिसका कथित तौर पर बैंक से गबन किया गया था। ईडी ने पिछले साल अक्टूबर में पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव (पीएमसी) बैंक में कथित ऋण धोखाधड़ी (Loan Fraud) की जांच के लिए हाउसिंग डेवलपमेंट इन्फ्रास्ट्रक्चर लिमिटेड (एचडीआईएल), उसके प्रमोटर राकेश कुमार वधावन और उनके बेटे सारंग वधावन, उसके पूर्व अध्यक्ष वी. सिंह और पूर्व प्रबंध निदेशक जॉय थॉमस के खिलाफ पीएमएलए के एक मामला दर्ज किया था।


4,355 करोड़ रुपये के नुकसान का मामला

एजेंसी ने पीएमसी बैंक को कथित रूप से ‘‘प्रथम दृष्टया गलत तरीके से 4,355 करोड़ रुपये का नुकसान और खुद को लाभ’’ पहुंचाने के लिए उनके खिलाफ मुंबई पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा की तरफ स दर्ज प्राथमिकी पर संज्ञान लिया था। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) और कांग्रेस के साथ महाराष्ट्र में सत्तारूढ़ महागठबंधन महा विकास अघाड़ी (एमवीए) की हिस्सा शिवसेना ने पहले आरोप लगाया था कि केंद्रीय जांच एजेंसियां उन्हें गलत तरीके से निशाना बना रही हैं। हाल ही में शरद पवार की पार्टी एनसीपी में शामिल हुए बीजेपी के पूर्व नेता एकनाथ खडसे को भी ईडी ने पुणे के भोसरी इलाके में एक भूमि सौदे से जुड़े धनशोधन मामले (Money Laundering Case) के संबंध में 30 दिसंबर को पूछताछ के लिए तलब किया है।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: