2025 तक फरीदाबाद-गुड़गांव के बीच चलने लगेगी मेट्रो, 2 लाइनें होंगी अंडरग्राउंड

स्टोरी शेयर करें



फरीदाबाद
हरियाणा के दो बड़े औद्योगिक शहरों फरीदाबाद-गुड़गांव के बीच मेट्रो रेल का सपना 2025 तक साकार होगा। इन दो प्रमुख शहरों की के लिए काम शुरू करने की प्रक्रिया को अब अंतिम रूप दिया जा रहा है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने औद्योगिक नगरी के लिए 2015 में यह सबसे पहले बड़ी परियोजना की घोषणा की थी। अब पांच साल बाद इस परियोजना की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) तैयार हो चुकी है।

पैसेंजर्स पर ऑवर पर डायरेक्शन ट्रैफिक की रिपोर्ट के अनुसार साल 2025 तक फरीदबाद-गुड़गांव के बीच रोजाना हर घंटे का एक तरफ का पैसेंजर लोड 8304 अनुमानित किया गया है। वहीं पूरे दिन का पैसेंजर मूवमेंट 1,24,769 होगा। यह पैसेंजर लोड साल 2031 के लिए 11,059 पैसेंजर प्रतेक घंटे का अनुमानित है। वहीं साल 2041 तक 12,553 पैसेंजर प्रति घंटे का अनुमान PHPDT द्वारा अनुमानित किया गया है। जिसे डीपीआर में शामिल करके फाइनल लेआउट तैयार हो चुका है।

पिछले डीपीआर से काफी अलग है संशोधित रिपोर्टयह नई डीपीआर पिछले साल मई माह में राज्य सरकार द्वारा बताई गई डीपीआर से अलग है। इसमें काफी बड़े बदलाव किए गए हैं। इस डीपीआर को लॉकडाउन से पहले मार्च 2020 में अंतिम रूप दिया गया था। मगर दोबारा हुए बदलाव और इस रूट पर भविष्य में बढ़ने वाले ट्रैफिक लोड को देखते हुए कुछ अन्य महत्वपूर्ण बदलाव करके फाइनल डीपीआर तैयार किया गया है। जनवरी 2017 में तैयार हुई डीपीआर में इस मेट्रो रेल लाइन के लिए तीन रूट ट्रैफिक के आधार पर तय किए गए थे। इनमें से पहले या दूसरे की बजाए अब तीसरे रूट को अंतिम रूप से तय किया गया है। इस रूट में आठ मेट्रो स्टेशन होंगे, जिनमें से दो अंडरग्राउंड और छह एलीवेटिड लाइन डलेंगी।

कुछ ऐसा होगा रूटबाटा चौक से गोल्फ कोर्स रोड तक दो लाइन अंडरग्राउंड लाइन होंगी। हालांकि मेट्रो लाइन की लंबाई पर इस रूट परिवर्तन से कोई असर नहीं पड़ा है। लंबाई 30.38 ही रहेगी मगर इस बड़े बदलाव की वजह से मेट्रो की लागत में जरूर अंतर आ रहा है। 2017 में रूट एक व दो के आधार पर बनाई गई डीपीआर से नई डीपीआर की लागत 449 करोड़ रुपये अधिक है। इस डीपीआर में भूमि अधिग्रहण और रेल लाइन की लागत है। इसके अलावा मेट्रो स्टेशन की लागत व टैक्स आदि लगाकर जो मेट्रो लाइन 2017 में 5900 करोड़ रुपये में तैयार होनी थी वह अब नई डीपीआर में 6900 करोड़ की लागत पर पहुंच गई है। नई डीपीआर के अनुसार मेट्रो लाइन का काम 2025 तक पूरा होगा।

मुख्य बिंदु

  • कुल आठ मेट्रो स्टेशन बनेंगे
  • दो मेट्रो लाइन अंडरग्राउंड और छह एलीवेटिड होंगी
  • नई डीपीआर की लागत करीब 1000 करोड़ रुपये बढ़ी
  • 2017 में डीपीआर 5900 करोड़ रुपये की थी
  • 2020 में डीपीआर 6900 करोड़ रुपये की तैयार की गई है

के तीन रूट

रूट एक

  • गुरुग्राम, सेक्टर-45
  • सुशांत,सेक्टर-54
  • मांडी
  • पुलिस चौकी मांगर
  • पाली स्टोन क्रशर जोन
  • बड़खल एन्क्लेव
  • प्याली चौक
  • बाटा चौक

रूट दो

  • सिंकरपुर मेट्रो स्टेशन
  • डिपोट स्टेशन
  • मांडी
  • पुलिस चौकी मांगर
  • पाली स्टोन क्रशर जोन
  • बड़खल एन्क्लेव
  • प्याली चौक
  • बाटा चौक

रूट तीन

  • वाटिका चौक,सेक्टर-56
  • मांडी
  • पुलिस चौकी मांगर
  • पाली स्टोन क्रशर जोन
  • बड़खल एन्क्लेव
  • अरावली गोल्फ कोर्स
  • बाटा चौक, फरीदाबाद



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: