पश्चिम बंगाल में ‘योगी मॉडल’ के जरिए ममता बनर्जी को पटखनी देगी बीजेपी? जानिए क्या है रणनीति

स्टोरी शेयर करें



कोलकाता
में बीजेपी इस बार पूरी ताकत झोंक रही है। बंगाल में सत्ता बनाने के लिए पार्टी हर दांव-पेच आजमाने में जुटी है। इसी के मद्देनजर बीजेपी ने यूपी के योगी मॉडल के जरिए ममता बनर्जी को घेरने की योजना बनाई है। माना जा रहा है कि बिहार और हैदराबाद के बाद उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अब बंगाल में भी चुनाव प्रचार करेंगे और कोरोना काल में प्रवासी मजदूरों के किए गए कामों से लेकर लव जिहाद पर कानून, भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस और राम मंदिर निर्माण को आधार बनाकर अपनी उपलब्धियां गिनाएंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, पश्चिम बंगाल बीजेपी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नीतियों के साथ योगी मॉडल के जरिए बंगाल से ममता राज खत्म करने की रणनीति तैयार कर ली है। बीजेपी बंगाल में ममता बनर्जी पर मुस्लिम तुष्टिकरण के आरोप लगाती रही है। ऐसे में फायर ब्रैंड हिंदू नेता की छवि बना चुके योगी आदित्यनाथ ‘मिशन बंगाल’ के लिए काफी उपयोगी साबित हो सकते हैं।

पढ़ें:

योगी ने ‘भाग्यनगर’ में बीजेपी को चमकाया
योगी बीजेपी के अकेले मुख्यमंत्री रहे हैं जिन्होंने बिहार में चुनाव प्रचार किया था। वहीं यूपी में 7 सीटों पर हुए विधानसभा उपचुनाव की बागडोर भी उन्होंने ही संभाली। हाल ही में हैदराबाद नगर निकाय चुनाव में भी योगी आदित्यनाथ ने चुनाव प्रचार किया। यहां उन्होंने हैदराबाद का नाम बदलकर भाग्यनगर करने की बात कही। नतीजों में इसका असर भी देखने को मिला। GHMC चुनाव नतीजों में बीजेपी ने शानदार प्रदर्शन करते हुए 48 सीटें जीतीं और ओवैसी की पार्टी AIMIM को तीसरे नंबर पर धकेलकर नंबर 2 की पार्टी बनकर उभरी।

बिहार के स्टार प्रचारक, 19 रैलियां की थीं
इसी तरह बिहार विधानसभा चुनाव में योगी आदित्यनाथ ने तीन चरणों में कुल 19 सभाएं की थी। बिहार चुनाव में भी योगी आदित्यनाथ ने अपने भाषणों में घुसपैठियों को बाहर खदेड़ने और धार्मिक फतवों के खिलाफ करारा प्रहार किया। योगी ने वहां खास तौर से हिंदू युवाओं को एनडीए के साथ लामबंद करने की कोशिश की जिसका असर नतीजों में दिखा था। योगी ने 17 जिलों में रैली की थी जिनके प्रभाव में 75 से अधिक विधान सभा क्षेत्र आए थे। इनमें से 50 सीटों पर एनडीए उम्मीदवारों को जीत मिली और योगी का स्ट्राइक रेट 66 प्रतिशत का रहा।

पढ़ें:

पश्चिम बंगाल में बीजेपी का मनोबल बढ़ाएंगे योगी
पश्चिम बंगाल में अगले साल होने वाले चुनाव को लेकर बीजेपी की उम्मीदें काफी बढ़ गई हैं। बंगाल में बीजेपी का प्रदर्शन चुनाव-दर-चुनाव बेहतर हुआ है। 2019 लोकसभा चुनाव में बंगाल में बीजेपी को 40 फीसदी वोट मिले। इसी के साथ उसने 42 में से 18 सीटों पर कब्जा जमाया। वहीं ममता की तृणमूल कांग्रेस को 43 फीसदी वोटों के साथ 22 सीटें मिली थीं।

बंगाल में 200 से अधिक सीटें जीतने का दावा
पिछले दिनों टीएमसी में मची भगदड़ और कई बड़े नेताओं के बीजेपी में शामिल होने से बंगाल में ममता के लिए भारी संकट आ गया है और इसके उलट बीजेपी का मनोबल काफी ऊंचा हुआ है। अमित शाह बंगाल में अमित शाह 200 से अधिक सीटें जीतने का दावा कर रहे हैं। अब देखना होगा कि ‘योगी मॉडल’ के साथ बंगाल में बीजेपी को उसके लक्ष्य तक पहुंचने में कितना फायदा मिलता है।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: