Jharkhand News: मौत के बाद भी रातभर हथियार ताने पड़ा रहा दो लाख के इनामी नक्सली का शव, कल ही एनकाउंटर में हुआ था ढेर

स्टोरी शेयर करें



रवि सिन्हा, रांची
झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ चलाए जा रहे अभियान () में पुलिस को लगातार सफलताएं मिल रही हैं। दो दिनों में ने दो इनामी नक्सलियों को मार गिराया (Naxalite Killed in Jharkhand) है। इनमें दो लाख का इनामी नक्सली पुनई उरांव (Punai Oraon) भी शामिल है। पीपुल्स लिबरेशन फ्रंट ऑफ इंडिया (PLFI) के इस नक्सली को मंगलवार देर शाम पुलिस ने एक मुठभेड़ (Police Naxalite Encounter) में ढेर कर दिया। हालांकि, मारे जाने के बाद भी पुनई उरावं शव बिल्कुल बंदूक थामे हुई स्थिति में पड़ा हुआ था।

रातभर इस हाल में पड़ा रहा इनामी नक्सली का शवमुठभेड़ में 2 लाख के इनामी नक्सली पुनई उरांव के ढेर होने बाद पुलिस रातभर लगातार इलाके में सर्च ऑपरेशन चला रही है। पुलिस के हौसले बुलंद है और वो फरार हुए अन्य नक्सलियों की तलाश में जुटी हुई है। वहीं सूबे के पुलिस महानिदेशक एमवी राव ने बुधवार को ट्वीट कर अपना मोबाइल नंबर जारी किया। साथ ही उन्होंने आम लोगों से अपील की है कि वे अपराधियों और नक्सलियों के बारे में सूचना देकर पुलिस का सहयोग करें।

पुलिस का सर्च ऑपरेशन जारी, फॉरेंसिक टीम कर रही जांच
दूसरी ओर मंगलवार देर शाम मुठभेड़ में मारे गए नक्सली पुनई उरांव का शव रात भर जमीं पर पड़ा रहा। इस दौरान मुठभेड़ के वक्त पुनई जिस पोजिशन में फायरिंग कर रहा था, उसी अवस्था में उसका शव बुधवार सुबह तक पड़ा हुआ मिला। हालांकि, हाथ से हथियार छूट कर जमीन पर गिर गया था। बताया जा रहा कि ठंड में पुनई उरांव का हाथ पूरी तरह से जकड़ गया था। सुबह में फॉरेंसिक विभाग की टीम मौके पर पहुंची और पंचनामा के बाद शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। इस दौरान फॉरेंसिक टीम लगातार साक्ष्यों को एकत्रित करने में जुटी रही।

झारखंड के डीजीपी की खास अपीलइधर, 23 दिसंबर की सुबह सात बजे के करीब डीजीपी एमवी राव ने ट्वीट कर आम लोगों से खास अपील की है। डीजीपी ने ट्वीट में लिखा है कि झारखंड पुलिस राज्य में सुरक्षित माहौल देने के लिए नक्सलियों और अपराधियों का सफाया कर रही है। संगठित आपराधिक गिरोहों के खिलाफ गहन और लक्षित अभियान से वांछित परिणाम मिल रहा है। साथ ही उन्होंने लोगों से अपराधियों और नक्सलियों के बारे में सूचना देकर पुलिस का सहयोग करने की अपील भी की है।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements
%d bloggers like this: