1990 से फरार हिजबुल का 2 आतंकी गिरफ्त में आया, मीरवाइज फारूक की हत्या में था शामिल

स्टोरी शेयर करें


एक बड़ी सफलता के रूप में जम्मू-कश्मीर पुलिस की राज्य जांच एजेंसी (एसआईए) ने मंगलवार को हिजबुल मुजाहिदीन के दो आतंकवादियों को गिरफ्तार किया, जो 21 मई, 1990 को मीरवाइज मुहम्मद फारूक की हत्या में शामिल थे। सीआईडी ​​के विशेष पुलिस महानिदेशक आरआर स्वैन ने यहां एक मीडिया कांफ्रेंस में कहा कि एसआईए द्वारा गिरफ्तार किए गए दो लोगों जावेद भट और जहूर अहमद भट में से एक ने दिवंगत मीरवाइज के बेडरूम में प्रवेश किया और उन पर गोलियां चलाईं।

इसे भी पढ़ें: Amarnath Yatra के साथ बहुत गहरा संबंध है Nowdal Shrine का, भव्य मंदिर और यात्री भवन का निर्माण शुरू

उन्होंने कहा कि मीरवाइज की हत्या के संबंध में 21 मई 1990 को निगीन थाने में प्राथमिकी 61/1990 के तहत मामला दर्ज किया गया था। फिर केस सीबीआई को ट्रांसफर कर दिया गया। सीबीआई ने टाडा अदालत के समक्ष एक आरोपी को गिरफ्तार करने के बाद उसके खिलाफ आरोप पत्र पेश किया था, जिसके बाद अदालत ने उसे उम्रकैद की सजा सुनाई थी। उन्होंने कहा कि मामले की जांच से पता चला है कि हिजबुल मुजाहिदीन के कमांडर अब्दुल्ला बांगरू ने मीरवाइज को मारने की साजिश रची थी।

इसे भी पढ़ें: Terror conspiracy case: एनआईए ने जम्मू कश्मीर में विभिन्न स्थानों पर छापे मारे

बांगरू और उसके सहयोगी, एक अन्य हिज्ब कमांडर मुठभेड़ों में मारे गए, जबकि एक आरोपी आजीवन कारावास की सजा काट रहा था। दो और अभियुक्त, जावेद भट और जहूर अहमद भट, दोनों श्रीनगर के निवासी थे, जिन्हें एसआईए ने गिरफ्तार किया था। वे गिरफ्तारी से बचते रहे क्योंकि वे इन वर्षों में पाकिस्तान और नेपाल में छिपे हुए थे। दोनों को भगोड़ा अपराधी बताकर गिरफ्तार कर सीबीआई को सौंप दिया गया है।



स्टोरी शेयर करें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.

Pin It on Pinterest

Advertisements